जैविक खाद

जैविक खाद कैसे तैयार करें ?

जैविक खाद कैसे तैयार करें ?

खादों का प्रयोग खेती के लिए किया जाता है ये हम सब को पता है और क्यों किया जाता है ये भी पता है। यदि आपको नहीं पता है तो आप हमारे दूसरे लेख को पढ सकते है। खाद बहुत सारे प्रकार के होते है उन्ही में से एक परर का खाद जैविक खाद भी होता है। जिसे किसान खुद की मेहनत और धर्य से अपने घर या खेत में बनाते है और उसका प्रयोग अपनी खेती करने के लिए करते है। जिससे वे जैविक खाद के नाम से जाना जाता है। इसका प्रयोग इसलिए किया जाता है क्यूंकि लगातार निरन्तर रासायनिक खाद का प्रयोग करने से भूमि की नामी कम हो जाती है और जमींन सख्त हो जाती है।

जैविक खाद :-

जैविक खाद का प्रयोग इसलिए किया जाता है क्यूंकि रासायनिक खाद के लगातार उपयोग करने से जमींन की उर्वरक तो बढ़ती है लेकिन जमींन की नमी घट जाती है और जमींन सुखी पड़ने लगती है। जैविक खाद का प्रयोग अधिकतर वर्षात के दिनों में किया जाता है। और इसका प्रयोग इसलिए किया जाता है क्यूंकि इसमें लागत कम होती है लेकिन मिट्टी को हर प्रकार की उर्वरक मिलती है और इसकी वजह से उपज में भी बढ़ोतरी होती है। जैविक खाद को तैयार करना बहुत ही आसान और सरल है और इसके फायदे भी बहुत सारे है।

Read also: खेतों की जुताई और सिंचाई।

जैविक खाद के फायदे :-

  • जैविक खाद से जमींन को किसी प्रकार की कोई हानि नहीं होती है।
  • इसकी लागत बहुत ही कम होती है। और फायदे भी अधिक होते है।
  • जैविक खाद को किसान खुद से तैयार कर सकते है।
  • जैविक खाद से अनाजों की गुणवत्ता बढ़ने से अच्छा स्वाद प्रपात होता है।
  • बिम्मारियाँ नहीं होती है, और स्वस्थ रखती है। 
  • जैविक खाद बनाने की विधि बहुत ही आसान है।
  • वैसे किसान जिनके वहां गोबर हो वो आसानी से जैविक खाद बनाकर तैयार कर सकते है।
  • किसान DAP व SSP खरीदने पर जितने पैसा खर्च करता है उससे कम पैसे में जैविक खाद बनाकर भरपूर फसल पैदा कर सकता है।
  • जैविक खाद मिट्टी को नरम बनाने के साथ-साथ पोषक तत्वों की उपलब्धता लंबे समय तक बनाये रखता है।

केचुआ खाद :-

घरो से निकलने वाले कूड़े और गोहाल से निकलने वाले गोबर एवं मूत्र जिन्हे एक गढ़े में जमा कर दिया जाता है और सालो के लिए छोड़ दिया जाता है। उसके बाद उनमे उपस्थित गोबर, मूत्र, पत्ते, केंचुवे इत्यादि सड़-गाल जाते है। और उन से निकलने वाले पदार्थ को केचुआ खाद के नाम से जाना जाता है।

केचुआ खाद ,  जैविक खाद

और इसी प्रकार से अधिकांश किसान जैविक खाद को तैयार करते है और अपने खेती करने के लिए उसका प्रयोग करते है। केचुआ खाद से खेत भी उपजाऊ बनता है और उपज भी अधिक होता है।

Read Also: मक्के की खेती कैसे करे ? How to cultivate maize?

केचुआ खाद को बनाने की विधि :-

सबसे पहले आप एक बड़ा सा गढ़ा खोद ले उसमे अपने घर से निकलने वाले कूड़े – कचरे को दाल दे और जो प्रातः आपके घर के गोहाल से गबर या मूत्र निकलते है उन सब को भी उसमे ही डाल दे। इस पर्किर्या को बहुत लम्बे समय के लिए दोहराये। जब ऐसा करते हुवे बहुत लम्बा समय हो जाये तो आपको जब खाद की जरूरत पड़े तो आप उसे उसमे से निकाल कर के अपने खेतो में डाल दे और मिट्टी को उर्वरक बना ले। और इसमें बहुत  सारे प्रकार है जिनकी मदद से खाद को त्यार किया जाता है। यदि आपको और अधिक जानकारी चाहिए तो आप हमें कांटेक्ट करे।

केचुआ खाद का उपयोग के तरिके :-

  • जमीन के लास्ट जुताई के समय केंचुआ खाद को मिट्टी में अच्छी तरह मिला दिया जाता है।
  • पौधे को लगाते समय गड्ढे में केंचुआ खाद डालना चाहिए।
  • मिट्टी चढ़ाते समय 30-40 ग्राम केंचुआ खाद हर पौधे के जड़ो में डालना चाहिए।
  • सभी फसलों में केंचुआ खाद का उपयोग किया जा सकता है।
  • कीटनाशक एवं रसायनिक दवाओं का प्रयोग न करें इससे केंचुए मर जाते हैं।
  • इसके प्रयोग से आपको खेती में अधिक उपज मिलेगी जिससे आपको अधिक मुनाफा होगा।

निष्कर्ष:- आशा करते है आपको ये अच्छे से समझ में आ गया होगा की जैविक खाद कैसे त्यार किया जाता है। और इसका प्रयोग क्यों और कैसे किया जाता है। यदि आपको किसी प्रकार की परेशानी या दिक्कत है तो आप हमें कमेंट कर सकते है या दिए गए हमारे ईमेल पे हमें कांटेक्ट कर सकते है।

धन्यवाद!!!!!

you may like:

Besthdmovies

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *