फसल सुरक्षा

फसल सुरक्षा से किसान कर सकते है अधिक उत्पादन।

फसल सुरक्षा

फसल सुरक्षा किसानो के लिए एक मुख्य कार्य होता है, जिसके बिना किसान फसल को उपजा भी नहीं सकते है। इसलिए फसल की सुरक्षा करना बहुत ही जरुरी है और इसकी मदद से किसान अधिक से अधिक लाभ कमा सकते है और अधिक से अधिक उत्पादन भी कर सकते है। तो चलिए आज हम आपको आज बताएँगे की फसल सुरक्षा होती क्या है और किस प्रकार से फसल की सुरक्षा की जाती है।

फसल सुरक्षा :-

फसल उत्पादन में बहुत सारे काम होते है जैसे:- जुताई, सिचाई, कटाई, सुरक्षा इत्यादि। उन्ही में से एक फसल सुरक्षा भी होता है जो की मुख्य होता है जिसके बिना फसल की उत्पादन कम हो जाती है और फसल के बर्बाद होने का डर भी सधिक होता है। और वही फसल की सुरक्षा की जाती है तो वे अधिक से अधिक उपजते है और बर्बाद होने के डर बिलकुल भी नहीं होता है। तो चलिए जानते है की फसल सुरक्षा में क्या-क्या होते है और कौन से अधिक महत्पूर्ण है।

  • फसल को बोने के बाद आपको फसल में हलकी पानी का छिड़काव करना चाहिए।
  • फसल के थोड़े से बड़े होने के बाद मतलब जब वे जमींन के अंदर से बहार निकल जाए तो उसे कोड़ा जाता है।
  • कोड़ने से मतलब है की फसल के बगल-बगल से मिट्टी को हटा दिया जाता है।
  • ताकि उनके जड़ो को धुप और पानी मिल सके।
  • एक दिन तक उसे उसी तरह से छोड़ दिया जाता है। उसके बाद उसे वापस से ढक दिया जाता है।
  • उसके कुछ दिन बाद फिर से खेती में सिचाई किया जाता है।
  • सिचाई पेरटेक 15 दिनों में करते रहने चाहिए।
  • फसलों को सबसे पहले जानवरो और पशुओ से बचा कर के रखें चाहिए।
  • क्यंकि बकरी, गाय,और बैल जैसे जानवर फसल को खा जाते है।
  • इसके बाद आपका मूक काम सुरु होता है।
  • फसलों को कीटो और पक्षिओ से सुरक्षित करना।
  • उसके लिए आपको बाजार से जा कर के कुछ चीजे लानी पड़ेगी।
  • आपको खाद और फसलों की सुरक्षा के लिए पाउडर आते है।
  • उन पाउडर को पानी में मिला कर के फसलों पे छिड़का जाता है।
  • और खादों को भी छिड़का जाता है ताकि किट-पतंग न लगे फसल में।
  • और पोडर को मिलाने के बाद हल्का-हल्का फसलों और उनके पाते पे छिड़का जाता है ताकि पक्षी और किट फसल से दूर रहे।
  • ये खाद का छिड़काव और पाउडर का आपको पेरटेक 20-25 दिनों में करना है।
  • इस तरह से आपका फसल भी सुरक्षत रहेगा और जल्दी से बड़ा होगा।
  • और जाएदा से जाएदा मात्रा में उत्पादन होगा।

भूमि की सुरक्षा :-

फसल को उपजाने के लिए भूमि की आवश्कता मुख्य होती है और जब कोई किसान खेती करने जाता है तो भूमि को ले कर के बहुत सारी प्रकार की पेशानी होती है जो की किसान झेलते है और उन्हें दूर करते है। उसके बाद भी भूमि में बहुत सारी प्रकार के खाद और उपजाऊ सामग्री मिलायी जाती है। उन्ही में से कुछ जाएदा फायदेमंद होते है और कुछ कम फायेदमंद और वही खाद भूमि के लिए सुरक्षा का काम करते है। और जमींन में गोबर भी मिलाया जाता है जससे की जमींन में उर्वरक बानी रहती है और अधिक उर्वरक बन जाती है। उतना ही नहीं बल्कि जमींन की जुताई कर के जमींन के अंदर भी अच्छे से खाद और गोबर को मिलाया जाता है। ताकि और लम्बे और अधिक समय के लिए सुरक्षता बानी रहे।

Read Also: इंटीग्रेटेड फ़ार्मिंग : किसान कमा सकते है सालों भर और सरकार भी कर रही है मदद।

बीज की सुरक्षा :-

बाजार से जा कर के अच्छे और साफ़ नए बीजो को ले आये और उन्हें गरम पानी में डाल कर के धो ले और धुप में रख दे ताकि वे सुख जाये। और उसके बाद उसमे फसल सुरक्षा पाउडर आता है उसमे मिला दे। और उसके बाद उसे रोपे इससे क्या होगा की फसल जल्दी बड़े हो जायेंगे और सुरक्षित रहेंगे।

निष्कर्ष :- आशा करते है आप्को ये अच्छे से समझ में आ गया होगा की किस प्रकार से फसल की सुरक्षा की जाती है और फसल की सुरक्षा क्यों जरुरी होती है। यदि आपको किसी प्रकार की कोई परेशानी या दिक्कत है तो आप हमें कमेंट कर सकते है या दिए गए हमरे ईमेल पे कांटेक्ट कर सकते है।

धन्यवाद!!!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *