February 27, 2021

रक्षक – Rakshak

एक बार की बात है बादशाह अकबर का दरबार लगा था। जिसमे अकबर ने कहा की आलू सब्जियों में बहुत प्रयोग किया जाता है आलू सब्जियों का राजा है कौन ऐसा व्यक्ति होगा जिसको आलू पसंद नहीं होगा। आलू को हम बार बार खा सकते है। दरबार में उपस्थित सभी लोग बादशाह अकबर के समर्थन में बोलने लगे लेकिन बीरबल चुप थे।

अकबर ने पूछा बीरबल क्या तुम मेरी बात से सहमत नहीं हो। बीरबल ने कहा महाराज आलू सब्जियों में बहुत प्रयोग अवशय किया जाता है लेकिन बहुत सी सब्जियां है जिसका प्रयोग हम कर सकते है आप बार बार केवल इसी को नहीं खा सकते।

इसके बाद अकबर ने बीरबल को कहा की तुमको पता नहीं मुझसे क्या समस्या है तुमको मेरी बात जरूर काटनी है मै तुमको नहीं समझ पाया और न ही तुम्हारे हिन्दू धर्म को जिसमे कहा जाता है की भगवान ने खुद संसार को बनाया है लेकिन किसी व्यक्ति को मुसीबत आ जाती है तो वह खुद बचाने धरती पर आ जाते है वह और किसी को क्यों नहीं भेज देते। बीरबल ने कहा इसका उतर में आपको कुछ दिन में दूंगा।

अकबर ने कहा तुम्हारे पास कोई उत्तर ही नहीं है। अगले दिन की बात है शाम के खाने में अकबर और बीरबल बैठे थे रसोइया खाना लेकर आया जिसको देखकर बादशाह अकबर हैरान हो गए क्योंकि खाने में सभी भोजन आलू का ही बना हुआ था।

यह भी पढ़े :- फांसी से वापसी – Phansi se Wapsi

अकबर ने गुस्से में बोलते हुए कहा की यह सब पकवान केवल आलू का ही क्यों बना हुआ है चिकन कबाब कहा है। रसोइए ने कहा हजूर आपको आलू बहुत पसंद है इसलिए सभी भोजन केवल आलू का बना है।

अकबर ने कहा तुमको यह बनाने को किसने बोला तो बीरबल ने कहा की यह सब मैंने बनाने के लिए बोला था क्योंकि आपने बोला था की मै बार बार आलू खा सकता हूँ। अकबर ने ठीक है मै मानता हूँ की आलू मुझे पसंद है लेकिन में केवल यही नहीं खा सकता।

इसके कुछ दिन बाद बादशाह अकबर अपने मंत्रियो और बीरबल के साथ बगीचे के तालाब के नज़दीक घूम रहे थे। एक दासी एक छोटे बच्चे को हाथ में लिए थी जो की अकबर का बेटा था। अकबर वही टहल रहे थे की तभी बच्चा दासी के हाथ से तालाब में गिर गया वह चिल्लाई राजकुमार पानी में गिर गया।

सभी हड़बड़ाए अकबर तुरंत बच्चे को बचाने के लिए पानी में कूद गए। वह उसको बाहर निकाल लाये जिसके बाद उनने कपड़ा हटा कर देखा तो उसमे राजकुमार की जगह खिलौना था यह किसने हमारे साथ मजाक किया है।

बीरबल ने कहा हजूर यह मेरे कहने पर किया गया है। अकबर ने बोला यदि तुमने इसकी कोई खास वज़ह नहीं बताई तो तुमको इसका दंड भुगतना पड़ेगा। बीरबल ने कहा पहले आप यह बताइये की राजकुमार के पानी में गिरने पर आपने किसी और को बचाने के लिए क्यों नहीं भेजा आप खुद क्यों गए।

Rakshak

इस पर राजा ने बोला की जब मेरा बेटा पानी में गिर गया तो मै किसी और को बोलूँगा की खुद उसको बचाने जाऊंगा तुम कैसी बात कर रहे हो। बीरबल ने बोला इसी तरह हमारे धर्म में भी जब किसी व्यक्ति को मुसीबत आती है तो भगवान खुद उसको बचाने आते है किसी और को भेजने की बजाय।

अकबर बीरबल की बात समझ चुके थे। बीरबल ने कहा राजकुमार बिलकुल सुरक्षित है और मै इस सबके लिए आपसे माफ़ी मांगता हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − 2 =